大富豪国际网址

BiharonWeb Logo Upcoming Elections
Information on various aspects of history, geography, states, districts & personalities of India
||World Breastfeeding Week - 1st August to 7th August||
Bezawada Gopala Reddy was born today||David Baldacci was born today||Gopinath Bordoloi had died today.||Kesab Chandra Gogoi had died today.||
Home >> News >> जदयू ने पिता और भाजपा ने बेटी को दी थी मात

जदयू ने पिता और भाजपा ने बेटी को दी थी मात

image
Posted on: 06 Mar, 2019 Tags  

BiharonWeb: 06 Mar, 2019,

क्या इस बार के लोकसभा चुनाव में बदला ले पाएंगी मीसा भारती ?

में वैसे तो 40 की 40 लोकसभा सीटों के चुनावी समीकरण और उन पर होने वाले चुनाव दिलचस्प होते हैं, लेकिन बीते दो चुनावों से एक नए लोकसभा सीट ने सबको अचंभित किया है। बिहार की प्राचीन राजधानी पाटलिपुत्र अपने उदय के समय से ही सियासी उठा-पटक का केंद्र रही है। के पुराने नाम से मशहूर पाटलिपुत्र में कई राजवंशों के बीच सियासी लड़ाईयां हुईं और पाटलिपुत्र कई राजनीतिक बदलाव का गवाह बना रहा। लेकिन, पाटलिपुत्र लोकसभा चुनाव 2019 में एक बार फिर से बिहार की सियासत का केंद्र बनने को तैयार है। लोकसभा चुनाव 2014 में पाटलिपुत्र लोकसभा सीट ने जिस राजनीतिक घमासान की वजह से पूरे देश का ध्यान खींचा था, इस बार भी ऐसा प्रतीत हो रहा है कि साख और पगड़ी की लड़ाई में फिर पाटलिपुत्र बिहार की राजनीति का कहीं केंद्र न बन जाए। लोकसभा चुनाव 2014 में जिस तरह से पाटलिपुत्र सीट पर अपनों के बीच सियासी घमासान देखने को मिला, इस बार भी लगता है कि वही जोड़ी सियासी अखाड़े में आमने-सामने होगी। दरअसल, कभी के राइट हैंड माने जाने वाले राम कृपाल यादव ने भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ राजद सुप्रीमो की बेटी मीसा भारती大富豪国际网址 को पटखनी दी थी। लोकसभा चुनाव 2014 से पहले पाटलिपुत्र सीट पर राम कृपाल यादव का नाम की ओर से तय माना जा रहा था, लेकिन ऐन वक्त पर लालू प्रसाद यादव ने राम कृपाल यादव को टिकट न देकर मीसा भारत को टिकट दे दिया। जिसके बाद राम कृपाल यादव बागी हो गए और ने मौके का फायदा उठाकर उन्हें टिकट दिया और वह पाटलिपुत्र से जीत कर लोकसभा पहुंच गए।

2009 में लालू प्रसाद यादव को दी थी पटखनी

दरअसल, पाटलिपुत्र लोकसभा सीट का इतिहास ज्यादा पुराना नहीं है, क्योंकि लोकसभा सीट के तौर पर पाटलिपुत्र का उदय 2008 के परिसीमन के दौरान हुआ था। इससे पहले तक पटना शहर में मात्र एक ही लोकसभा सीट हुआ करती थी, जिसका नाम है- पटना साहिब। पटना साहिब को शत्रुघ्न सिन्हा का गढ़ माना जाता है, यानी अब पटना शहर में दो लोकसभा सीटें हैं- एक पटना साहिब और दूसरा पाटलिपुत्र। पाटलिपुत्र लोकसभा सीट में माना जाता है कि भूमिहार, यादव और मुसलमान का वोट बैंक ज्यादा है। साल 2009 में पाटलिपुत्र लोकसभा सीट पर पहली बार चुनाव हुए। पाटलिपुत्र के पहले चुनावी अखाड़े में एक ओर जहां राजद नेता लालू प्रसाद यादव थे, वहीं दूसरी ओर थे के नेता रंजन प्रसाद यादव। पाटलिपुत्र लोकसभा सीट पर हुए पहले मुकाबले में ही बड़ा उलटफेर हो गया और जदयू के रंजन प्रसाद यादव ने लालू प्रसाद को पटखनी देकर सबको हैरान कर दिया। रंजन प्रसाद यादव ने लालू प्रसाद यादव को करीब 23 हजार से ज्यादा वोटों से हराया और लालू प्रसाद यादव के कद पर एक बड़ा प्रश्न चिन्ह खड़ा कर दिया।

 

यह भी पढ़ें-

राम कृपाल यादव ने अपनाया बागी तेवर

大富豪国际网址 वर्ष 2014 में राजद ने अपनी पार्टी के दिग्गज नेता और लालू प्रसाद यादव के वजीर कहे जाने वाले राम कृपाल यादव को नहीं, बल्कि अपनी बेटी मीसा भारती को पाटलिपुत्र सीट से उतारा। राम कृपाल यादव लालू प्रसाद यादव के इस फैसले से नाराज हुए। उन्होंने इस फैसले के विरोध किया और बागी तेवर अपनाया। पाटलिपुत्र से टिकट न मिलने से नाराज राम कृपाल यादव ने भाजपा का दामन थामा और 2014 के लोकसभा चुनाव में ही अपनी 'भतीजी' और लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती को हरा दिया। लोकसभा चुनाव 2014 में भारतीय जनता पार्टी की टिकट पर लड़ने वाले राम कृपाल यादव ने मीसा भारती को करीब 40 हजार वोटों से हरा दिया। चुनाव से पहले ऐसा माना जा रहा था कि राम कृपाल यादव भाजपा में जाकर और पाटलिपुत्र से लालू यादव की बेटी के खिलाफ चुनाव लड़कर अपने पैर पर कुल्हाड़ी मार रहे हैं। मगर 2014 में लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती को हराकर उन्होंने सबको चौंका दिया। यही वजह है कि भाजपा ने भी राजद को यहां से हराने के बदले उन्हें इनाम से नवाजा। राजद में सेंध लगाने की चाह रखने वाली भाजपा ने रामकृपाल यादव को जीत का इनाम दिया और उन्हें केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह मिली।

चाचा को सियासी लड़ाई में मात देने के इरादे से उतरेंगी मीसा

大富豪国际网址 अब 2019 लोकसभा चुनाव में अब तक जो तस्वीर सामने आई है, उससे साफ है कि इस बार भी पाटलिपुत्र लोकसभा सीट से राजद की ओर से मीसा भारती और भाजपा की ओर से राम कृपाल यादव के बीच ही मुकाबला होगा। हार के बाद से ऐसी भी खबरें थीं कि मीसा भारती पाटलिपुत्र से चुनाव नहीं लड़ सकती हैं, लेकिन उनके भाई तेजप्रताप यादव जिस तरह से दावा ठोक रहे हैं कि मीसा भारती पाटलिपुत्र से ही चुनाव लड़ेंगी, उसके मुताबिक अब यही माना जा रहा है कि मीसा भारती एक बार फिर चाचा को सियासी लड़ाई में मात देने के इरादे से उतरेंगी।

Edited by Ashutosh

Copyright © 2020 lcyz186.cn
Powerd By