大富豪国际网址

BiharonWeb Logo Upcoming Elections
Information on various aspects of history, geography, states, districts & personalities of India
||World Breastfeeding Week - 1st August to 7th August||
Bezawada Gopala Reddy was born today||David Baldacci was born today||Gopinath Bordoloi had died today.||Kesab Chandra Gogoi had died today.||
Home >> News >> देश के गौरव को सुशोभित करने वाला राज्य है बिहार

देश के गौरव को सुशोभित करने वाला राज्य है बिहार

image
Posted on: 18 Jun, 2018 Tags  

BiharonWeb: 18 Jun, 2018,

 बिहार के बगैर भारत का इतिहास है अधूरा

大富豪国际网址 वर्तमान समय में बिहार से बाहर के लोग हीन दृष्टि से, कभी मजाकिया तौर पर, तो कभी ताना मारने के लिए बिहारी शब्द का प्रयोग करते हैं। यहां तक की भारत में ही कई स्थानों पर बिहार के कुछ लोग खुद को बिहारी बतलाने से परहेज करते हैं। वे लोग जो बिहारी शब्द को गाली के तौर पर प्रयोग कर रहें हैं, जो बिहारवासियों की उपेक्षा कर रहे हैं, उन्हें सबक लेने की जरुरत है। खास तौर पर महाराष्ट्र की राजनीतिक पार्टियों को कि वो किस प्रकार एक पवित्र भूमि का देश के गौरव को सुशोभित करने वाले राज्य की अपनी प्राचीन संस्कृति व गरिमा का अपमान करती हैं। उन्हें शर्म आनी चाहिये कि वो जिस भूमि का अपमान करते हैं, वो मां सीता की जन्मभूमि है, गौतम बुद्ध की तपोभूमि है। बिहार के इतिहास के बगैर भारत का इतिहास अधूरा है। वैदिक साहित्य, ब्राह्मण ग्रंथ, उपनिषद, महाकाव्य आदि रचनाएं बिहार में ही हुईं। मिथिला के राजा का दरबार काफी समय तक पूरे भारत की सांस्कृतिक गतिविधियों का केंद्र रहा। वहां दार्शनिक, शास्त्रार्थ व ज्ञान प्राप्ति के लिए आते थे। इसके प्रमाण प्राचीन साहित्य में भरे पड़े हैं। बिहार वो राज्य है जिसे प्राचीन काल में मगध के नाम से जाना जाता था व इसकी राजधानी पटना को पाटलिपुत्र के नाम से। बिहार का इतिहास उतना ही पुराना है जितना पुराना भारत है। यहां मौर्य, गुप्त, मुगल आदि राजवंशो ने राज किया। यह माना जाता है कि बिहार शब्द की उत्पत्ति बौद्ध विहारों के विहार शब्द से हुई। जिसे बाद में बिहार कर दिया गया। 99 हजार 200 वर्ग किमी के क्षेत्रफल में विस्तृत बिहार उत्तर में नेपाल, दक्षिण में झारखण्ड, पूर्व में पश्चिम बंगाल और पश्चिम में उत्तर प्रदेश से घिरा हुआ है। 1912 में बंगाल के विभाजन के बाद बिहार अस्तित्व में आया। वर्ष 1935 में उड़ीसा और वर्ष 2000 में झारखण्ड को बिहार से अलग कर दिया गया। बिहार वो राज्य है जो भारत के इतिहास में साहित्यिक, ऐतिहासिक, धार्मिक सभी स्तरों पर महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। आज भी बिहार शिक्षा, संस्कृति और समाजिक दृष्टिकोण से उतना ही समृद्ध है जितना पहले था। ये बिहार के गौरव और प्रतिष्ठा को प्रकट करने वाली ऐसी जानकारियां हैं जो बिहार के उपेक्षकों के नजरिये को बदल देगी।

बिहार की विकास दर अन्य सभी राज्यों से अधिक, आईएएस-आईपीएस देने में भी आगे

आज बिहार में केरल, तमिलनाडु, आन्ध्र-प्रदेश और गुजरात से अधिक संख्या में आईएएस और आईपीएस निकल रहें हैं। उत्तर प्रदेश के बाद सबसे अधिक संख्या में आईएएस-आईपीएस बिहार से ही निकल रहे हैं। नीति आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक आज बिहार की विकास दर, राष्ट्रीय विकास दर व अन्य सभी राज्यों के विकास दर से अधिक है। यह साबित करती है कि बिहार, देश में तेजी से विकास करने वाले राज्यों में सबसे ऊपर है। आज सर्वाधिक बैंक पीओ बिहार से हैं, जो अन्य राज्यों को पछाड़ रहे हैं। आज जितने आईआईटियन बिहार से निकल रहे हैं, वो अन्य राज्यों से कहीं अधिक है। आपराधिक स्तर पर बात की जाए तो आज जहां अन्य राज्यों में निरतंर क्राइम रिकार्ड टूटता दिखाई दे रहा है, वहीं बिहार का क्राइम रेट अन्य राज्यों की अपेक्षा कम है। दिल्ली की तुलना में बिहार का क्राइम रेट दिल्ली का दसवां हिस्सा है। बिहार में पिछले 10 वर्षों में नक्सली हिंसा पर भी काबू पाया गया है। यहां नक्सली हिंसा में मरने वाले लोगों की तादात आन्ध्रप्रदेश से कम है। यदि कृषि क्षेत्र की बात की जाए, तो बिहार की उत्पादन क्षमता पंजाब से भी ज्यादा है। आज किसानों की आत्महत्या की खबर आम हो गयी है। वहीं, बिहार एक ऐसा राज्य है, जहां कोई किसान इतना मजूबर नहीं होता कि उसे आत्महत्या करनी पड़े। बिहार वो राज्य है, जहां कवि कोकिल विद्यापति का जन्म हुआ, जहां देश के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेन्द्र प्रसाद का जन्म हुआ। बिहार राज्य ने आज़ादी के पूर्व भारत छोड़ो आन्दोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। बिहार में चंपारण का विद्रोह हुआ जो ऐतिहासिक दृष्टिकोण से बहुमूल्य घटना है। यह वो जगह है, जहां बौद्ध धर्म और जैन धर्म का उदय हुआ। यहीं मां सीता का जन्म हुआ और सीता-राम का मिलन हुआ। यहां गंगा, बागमती, कोशी, कमला, गंडक, घाघरा, सोन, पुनपुन, फल्गु, किऊल नदियां बहती हैं। यहां की मिथिला पेंटिग जिसका अस्तित्व सैकड़ों साल पुराना है, आज देश-विदेश में प्रसिद्ध चित्रकला के रुप में विख्यात है। बिहार वो राज्य है जहां नालंदा और विक्रमशिला जैसे पुरातन विश्वविद्यालय हैं। जहां विश्वामित्र का आश्रम था, जहां राम-लक्ष्मण की प्रारंभिक शिक्षा संपन्न हुई। बिहार के कोचिंग सेंटर सुपर 30 को अमेरिका की टाइम मैगजीन ने सर्वश्रेष्ठ संस्थानों की सूची में शामिल किया है। आज यहां की लड़कियां हर क्षेत्र में आगे बढ़कर परचम लहरा रही हैं। बिहार के सन्दर्भ में इतने प्रसंग हैं, जिसे जानकर हर बिहारी को खुद पर गर्व होगा।

Copyright © 2020 lcyz186.cn
Powerd By